शब्द

हलन्त वाले शब्द तथा उनके अर्थ | Halant Wale Shabd (2024)

Rate this post

आज के इस आर्टिकल में हम हलन्त वाले शब्द (Halant Wale Shabd) बताने वाले हैं। जिससे आपको शब्दों को पहचानने में सहायता होगी। हलन्त वाले शब्द (Halant Wale Shabd)  छोटे बच्चो के पढ़ने के लिए इन शब्दो का जानना बहुत ही जरूरी होता हैं। यदि आप प्रथम दित्तीय कक्षा में पढ़ते हैं तो आपके लिए हलन्त वाले शब्द (Halant Wale Shabd) जानना बहुत ही आवश्यक है।

हिंदी भाषा में ऐसे बहुत से शब्द मुख से उच्चारित किये जाते हैं जिनमे प्रयुक्त कुछ व्यंजनों के उचारण में बहुत कम समय लेना होता है। उस समय उस व्यंजन वर्ण के लिए हलन्तप्रयोग किया जाता है। आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि हलन्त का प्रयोग करने से वह व्यजंन वर्ण आधा बन जाता है। उद्धरण के लिए किंचित ले तो व्यंजन वर्ण के लिए हलन्त का प्रयोग किया गया है।

छात्रों को अक्सर विभिन्न हिंदी अक्षरों का उच्चारण करने के लिए कहा जाता है। विभिन्न अक्षरों को व्यक्त करके न केवल अक्षर सेट पर जानकारी में सुधार होता है बल्कि वे अपनी भाषा पर भी काम कर सकते हैं। हमारे इस आर्टिकल की मदद से छात्र वर्णमाला का उच्चारण करना सीखकर शब्दों का सही उच्चारण भी कर सकते हैं।

इसीलिए शुरुवात मे छोटे बच्चों को विधालय मे अ से अ: तक की मात्राओ का ज्ञान करवाया जाता है। अगर आप हलन्त वाले शब्द (Halant Wale Shabd) के बारे में जनना चाहते हैं और इसके बारे में बेहतरीन तरह से जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो बने रहें हमारे इस आर्टिकल के अंत तक।

हलन्त वाले शब्द (Halant Wale Shabd)

छोटी क्लासों में बच्चो को पढ़ाने के लिए हिंदी भाषा को सिखाने के लिए सबसे पहले मात्रा वाले शब्दों को जोड़ना सिखाया जाता है। बहुत से छात्र छात्राएं ऐसे भी होते हैं जिन्हें Halant Wale Shabdनही पता होते हैं इसलिए वो का मोबाइल फ़ोन यूज़ करके गूगल पर सर्च करते हैं। इसी को देखते हुए हमने इस आर्टिकल को लिखा है जैसे कि निचे दिखाए गए हैं।

  • अंतर्
  • जगत्
  • अहम्
  • कीर्तिमान्
  • राजभ्‍याम्
  • विद्वस्
  • पश्चात्
  • राज्ञाम्
  • बम्
  • सन्
  • विद्वस् 
  • बालकान्
  • बालिकाम्

मात्राएँ और उनका उच्चारण

जब स्वर व्यंजन के साथ जुड़ते हैं तो उनके रूप में परिवर्तन हो जाता है। स्वरों के प्रकार के इस समायोजन को मात्रा कहते हैं। मात्राओं का उपयोग एक अद्वितीय छवि के रूप में किया जाता है। प्रत्येक मात्रा का अपना अलग प्रतीक होता है, “ए” को छोड़कर, जिसकी एक अलग व्यंजन ध्वनि होती है। ‘ए’ को सभी व्यंजनों में ट्रैक किया जाता है।

इसलिए इसकी कोई राशि नहीं होती. जब व्यंजन में स्वर ‘अ’ न मिले तो उस समय व्यंजन के नीचे हलन्त लगा दिया जाता है। जैसे – क्, प्, छ्, ल्, व्, न् गृह, गृहणी, गृह्य, गृहीत आदि।

दो और उससे अधिक अक्षर के हलन्त वाले शब्द

सन्बम्किम् 
क्पक्फक्अत
व्नव्आनागृहीत
लृट्अश्वः क्रीम
लोट् लङ् अस् 
प्अतप्रातप्रकार
शतृतुमुन् तृच् 
ल्यप् प्रत्यय चित् 
गृहगृहणीगृहीत
गृहीलगृहीटीगृहीर
अस्मद् वृक्षाः इकरान्त 
द्वितीया पूरणी ऋकारांत 
ईश्वरवंदना क्तवतुनृपस्य 
साफल्यम् ब्राह्मण संस्कृत 
आत्मज्ञानम् नृपस्य लकारार्थप्रक्रिया
कीर्तिमान्आत्मनेपदशानच्
प्रकृतिण्वुल्पुष्ट 
कृत्प्रत्ययों अद्भुत ज्ञानपूर्वक 
पाठ्यक्रम प्रत्ययों व्युत्पन्न 
संस्कृतभाषा जगत् कृदन्त
छ्लछ्नछ्ट

हलन्त के प्रयोग का कारण

हिंदी भाषा में ऐसे बहुत से शब्द मुख से उच्चारित किये जाते हैं जिनमे प्रयुक्त कुछ व्यंजनों के उचारण में बहुत कम समय लेना होता है। उस समय उस व्यंजन वर्ण के लिए हलन्त का प्रयोग किया जाता है। आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि हलन्त का प्रयोग करने से वह व्यजंन वर्ण आधा बन जाता है। आपकी अधिक जानकारी के लिए हम आपको एक उद्धरण सहित समझते हैं।

जैसे कि किंचित् ले तो व्यन्जन वर्ण के नीस हलन्त का प्रयोग किया गया है। यहाँ पर ‘त्’ का उच्चारण बहुत अप समय के लिए किया जाता है। इसी तरह विद्यालय शब्द में ‘द्‘ में हलन्त का प्रयोग कर इसका अप्ल उच्चारण किया जाता है। हलन्त जब किसी वयंन्जन के निचे लगाया जाता है तो वह वयंन्जन वर्ण स्वररहित हो जाता है अर्थात जिस वयंन्जन के बाद यह चिन्ह लगा होता है उसे वयंन्जन में छुपा हुआ ‘अ’ समाप्त हो जाता है।

इस तरह उस वयंन्जन वर्ण का उपयोग शुद्ध रूप में होता है हलन्त किसी वर्ण के आधे होने का एक सूचक चिन्ह है। हलन्त युक्त वयंन्जनो का एक अकेले वर्ण के रूप में उच्चारण करना संभव नही है यदि किसी शब्द में हलन्त युक्त वर्ण का प्रयोग हुआ है तब उस वयंन्जन का हल्का उच्चारण सुनाई देता है।

हलन्त संबधी नियम– हलन्त के प्रयोग के संबंध में कुछ नियम भी हैं।

1. जब किसी शब्द ‘मान्’ प्रत्यय का प्रयोग होता है तब हलन्त का प्रयोग नही होता है।

उद्धरण- बुद्धिमान्, श्रीमान्, आयुष्मान्।

2. किन्तु जब धातु में ‘मान’ प्रत्यय का प्रयोग होता है तब हलन्त का प्रयोग नही होता है।

उद्धरण– विराजमान, यजमान, विधमान, वर्तमान।

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल के माध्यम से हमने आपको हलन्त वाले शब्द (Halant wale shabd) बताये हैं उम्मीद करता हूँ आपको हमारे द्वारा लिखे गए हलन्त शब्द पसंद आये होंगे। हमारा यह आर्टिकल हिंदी वाक्य सिखने वालो के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है। यदि अभी भी आपके मन में इससे लेकर कोई प्रश्न है तो आप हमेशा कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Halant Wale Shabd हिंदी भाषा में बहतु उपयोगी हैं और हमारी भाषा को और सुंदर और स्पष्ट बनाने में हेल्प करते हैं अगर आप ऐसे ही यूज़ फुल आर्टिकल पढना चाहते हैं तो आप हमारी वेबसाइट Shabdroop.com को हमेशा विजिट करते रहें। अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें। मिलते हैं दोस्तों अगले आर्टिकल में जब तक के लिए धन्यवाद।

यहाँ भी पढ़ें-

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button