शब्द रूप

भगवत् शब्द के रूप – Bhagwat Shabd Roop in Sanskrit

2/5 - (1 vote)

हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारी शब्दरूप वेबसाइट पर जहां हम आपके लिए रोजाना यूज फुल आर्टिकल लेकर आते हैं रहते हैं। आज के इस आर्टिकल में हम आपको Bhagwat Shabd Roop के संस्कृत अर्थ के बारे में बताने वाले हैं और भगवत् शब्द से संबंधित परीक्षा में पूछे जाने वाले प्रश्नों के बारे में बताने वाले हैं।

हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भगवत् शब्द रूप विद्यार्थियों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। यह एक ऐसा शब्द है जिसके बारे में अक्सर परीक्षा में पूछ लिया जाता है। अक्सर हिंदी संस्कृत की परीक्षाओ में Bhagwat Shabd Roop का अर्थ पुछ लिया जाता है इसलिए आपको इसके बारे में जानकारी होना अवश्य है।

हमने इससे पिछले आर्टिकल में आपको Kanya Shabd Roop in Sanskrit अर्थ के बारे में बताया और इसके साथ ही हमने कन्या शब्द रूप से संबंधित पूछे जाने वाले प्रश्नों के बारे में भी महत्वपूर्ण जानकारी दी। अगर आपने हमारा पिछला आर्टिकल नहीं पढ़ा है तो आप हमारे द्वारा ऊपर दिए गए लिंक पर क्लिक कर कर बहुत आसानी से हमारे पिछले आर्टिकल को पढ़ सकते हैं।

Bhavan Shabd Roop

अगर आप भगवत् शब्द रूप के बारे में जानना चाहते हैं। तो आप बिल्कुल सही जगह आए हैं क्योंकि इस आर्टिकल में हम Bhagwat Shabd Roop के बारे में सारी महत्वपूर्ण जानकारी देंगे। अक्सर आपने देखा होगा कि कक्षा 6, 7, 8, 9, 10 के विद्यार्थियों से Bhagwat Shabd Roop के बारे में पुच लिया जाता है।

यदि आप Bhagwat Shabd Roop के बारे में संस्कृत में जानना चाहते हैं तो आप हमारे द्वारा लिखे गए इस आर्टिकल को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें।

भगवत् शब्द का अर्थ (Bhagwat Shabd Roop)

क्या आप Bhagwat Shabd Roop का अर्थ जानना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि भगवत का मतलब सरस्वती देवी देवी का नाम, प्रेरित, सहज, और रचनात्मक, देवी दुर्गा होता है। संस्कृत भाषा में शब्द रूपों का उपयोग करके वाक्यों का निर्माण किया जाता है।

एक वाक्य में, एक शब्द के कई अलग-अलग रूप हो सकते हैं। भागवत एक पुरुषवाचक संज्ञा है, जिसका अर्थ है “ईश्वर, ईश्वर।” सभी पुल्लिंग संज्ञाओं के एक ही रूप होते हैं, जैसे इच्छा, आयुष्मात, एतावत, जाग्रत और गच्छत आदि।

भगवत् शब्द का अर्थ (Bhagwat Shabd Roop)
भगवत् शब्द का अर्थ (Bhagwat Shabd Roop)

Rma Shabd Roop

Bhagwat Shabd Roop

हमने इससे ऊपर के आर्टिकल में आपको भगवत् शब्द के अर्थ के बारे में बताया और अब हम आपको Bhagwat Shabd Roop के बारे में बताने वाले हैं। तो दोस्तों हम आपको बता दें की भगवत् शब्द के तकारान्त पुल्लिंडी शब्द के शब्द रूप भगवत् शब्द के अंत में ‘त’ की मात्रा का उपयोग हुआ इसलिए यह तकारान्त है।

अत: Bhagwat Shabd Roop की तरह भगवत् जैसे सभी तकारान्त पुल्लिंडी शब्दों के रूप इसी प्रकार बनते हैं। भगवत् शब्द के रूप संस्कृत में सभी विभिक्तियो एंव तीनो वचन में शब्द रूप होते हैं जैसे की आप निचे टेबल में देख सकते हैं।

Mala Shabd Roop

भगवत् शब्द रूप के संस्कृत अर्थ (Kaksha Shabd Roop)

विभक्तिएकवचनद्विवचनबहुवचन
प्रथमाभगवन्भगवन्तौभगवन्तः
द्वितीयाभगवन्तम्भगवन्तौभगवतः
तृतीयाभगवताभगवद्भ्याम्भगवद्भिः
चतुर्थीभगवतेभगवद्भ्याम्भगवद्भ्यः
पंचमीभगवतःभगवद्भ्याम्भगवद्भ्यः
षष्‍ठीभगवतःभगवतोःभगवताम्
सप्‍तमीभगवतिभगवतोःभगवत्सु
सम्बोधनहे भगवन्!हे भगवन्तौ!हे भगवन्तः!
भगवत् शब्द रूप के संस्कृत अर्थ (Kaksha Shabd Roop)
भगवत् शब्द रूप के संस्कृत अर्थ (Kaksha Shabd Roop)

Vriksh Shabd Roop

पुछे गए प्रश्न (FAQs)

इससे ऊपर के आर्टिकल में हमने आपको भगवत् शब्द के अर्थ Bhagwat Shabd Roop हिंदी में और भगवत् शब्द रूप के संस्कृत अर्थ के बारे में बताया है। अब हम आपको भगवत् शब्द से सम्बंधित परीक्षाओ में पुछ लिए जाने वाले प्रश्नों के बारे में बताने वाले हैं जो कि निम्नलिखित हैं।

प्रश्न- भगवत् क्यों करवाते हैं?

उत्तर- सभी को भगवत् पुराण का आयोजन करना चाहिए क्योंकि इसे अपने पूर्वजों की शांति के लिए मुक्ति ग्रंथ कहा गया है। इसके अलावा, यह रोग शोक, पारिवारिक कलह के निवारण, आर्थिक समृद्धि और समृद्धि के लिए स्थापित किया जाता है। से साक्षात्कार करता है। भागवत कथा के आयोजन और श्रवण के विभिन्न लाभ हैं, जिनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं।

प्रश्न- श्रीमद् भागववत् कब लिखा गया था?

उत्तर- श्रीमद भागववत् के लिए केवल दो प्रलेखित संकेत हैं जिन्हें सुरक्षित रूप से 950 और 1050 सीई के बीच की अवधि के लिए दिनांकित किया जा सकता है; अन्यथा, इसका या किसी अन्य वैदिक पाठ का उद्गम निर्धारित नहीं किया जा सकता है।

Mata Shabd Roop

प्रश्न- भगवत् की उत्पत्ति कैसे हुई?

उत्तर- माना जाता है कि भगवत् कथा सुनने से ही मोक्ष की प्राप्ति होती है। ऋषि सुखदेव मुनि जी मौजूद थे जब भगवान शिव ने उन्हें देवलोक में यह कहानी सुनाई, एक ऐसा स्थान जिसे संकदित ऋषियों ने शुरू में हरिद्वार के घने, नील पर्वत की कठिन तलहटी में बनाया था। कहानी को मध्य में सिद्धस्रोत नामक स्थान पर प्रस्तुत किया गया था, जहां पृथ्वी पर अधिकांश लोग एकत्र होते हैं।

प्रश्न- भगवत् हमें क्या सिखाती है?

उत्तर- भगवत् गीता हमें सलाह देती है कि हम अपना सारा ध्यान अपने काम में लगाएं और यह याद रखें कि जब हम इसे पूरा करेंगे तो यह अंततः हमारे पास वापस आ जाएगा। व्यक्ति को सत्य की खोज और अच्छे कार्यों को अन्य सभी संबंधों से ऊपर रखना चाहिए।

प्रश्न- भगवत् में क्या लिखा है?

उत्तर- यह प्रतिबद्धता, ज्ञान और अरुचि की उत्कृष्टता को दर्शाता है। विष्णु और कृष्ण अवतार की कथाओं का ज्ञान कराने वाले इस पुराण में हम फलदायक श्रम, निःस्वार्थ कर्म, ज्ञान साधना, सिद्धि साधना, भक्ति, कृपा, मर्यादा, द्वैत-अद्वैत, द्वैत और निर्गुण-सगुण के बारे में सीखते हैं। श्रीमद्भागवत पुराण ज्ञान का कभी न खत्म होने वाला स्रोत है।

Pushp Shabd Roop

निष्कर्ष

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको Bhagwat Shabd Roop के संस्कृत अर्थ के बारे में बताया है।  हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से Bhagwat Shabd Roop से सम्बंधित अक्सर पुछे जाने वाले प्रश्नों के बारे में बताया। अब मैं उम्मीद करता हूँ अब आपके मन में भगवत् शब्द रूप से सम्बंधित सारे प्रश्न दूर हो गए होंगे।

परीक्षाओं में अक्सर ऐसे प्रश्न पुछ लिए जाते हैं इसलिए आपको इन शब्दों के बारे में जानकारी होना चाहिए। उम्मीद करता हूँ आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों में ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

रोजाना ऐसे ही यूज़ फुल आर्टिकल रोजाना पढना के लिए “शब्दरूप” वेबसाइट को हमेशा विजित करते रहें क्योंकि हम इस तरह की सारी जानकारी अपनी इस वेबसाइट पर देते रहते हैं। यह आर्टिकल आपको पसंद आया हो तो हमे कमेंट करके जरुर बताएं मिलते हैं अगले आर्टिकल में जब तक के लिए धन्यवाद।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button